Haryana Media
Ad


विराट कोहली ने रचा इतिहास, वनडे क्रिकेट में ऐसा करने वाले पहले बल्लेबाज

भारत (India National Cricket Team) और ऑस्ट्रेलिया (Australia Cricket Team) के बीच तीन वनडे मैचों की सीरीज (India vs Australia ODI Series) के आखिरी मुकाबले में विराट कोहली (Virat Kohli) ने एक बड़ा कारनामा किया है. कैनबरा के मनुका ओवल मैदान पर भारतीय पारी के 13वें ओवर की पहली ही गेंद पर जैसे ही विराट कोहली ने एक रन लिया, वैसे ही उन्होंने वनडे क्रिकेट में 12 हजार रन पूरे कर लिए.

विराट कोहली वनडे में 12 हजार रन बनाने वाले दूसरे भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं. इतना ही नहीं विराट कोहली ने यह कारनामा केवल 242 पारियों में किया है. ऐसे में वो ऐसे पहले बल्लेबाज हैं जिन्होंने 250 से कम पारियों में ही 12 हजार रन पूरे किए हैं. इससे पहले जिन खिलाड़ियों ने वनडे में 12 हजार रन बनाए हैं, सबने 300 या उससे अधिक पारियों में यह कारनामा किया है.

विराट कोहली से पहले वनडे में सबसे तेज 12 हजार रन बनाने का रिकॉर्ड सचिन तेंदुलकर के नाम था. सचिन तेंदुलकर ने 300 पारियों में यह कारनामा किया था. जबकि ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने 314 पारियों में 12 हजार रन बनाए थे. वहीं श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगाकारा ने 336 पारियों में यह कारनामा किया था. श्रीलंका के ही पूर्व महान बल्लेबाज सनथ जयसूर्या ने 379 पारियों में 12 हजार रन बनाए थे. वहीं महेला जयवर्धने ने 399 पारियों में 12 हजार रन पूरे किए थे.

बात अगर मैच की करें तो टॉस जीतकर भारतीय कप्तान विराट कोहली ने पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया. कप्तान कोहली का यह फैसला सही साबित नहीं हुआ तो सलामी बल्लेबाज शिखर धवन 16 रन बनाकर आउट हुए. इसके बाद क्रीज पर बल्लेबाजी को आए कप्तान कोहली ने सलामी बल्लेबाज शुभमन गिल के साथ पारी को संभाला. शुभमन गिल 33 रन बनाकर आउट हुए. वहीं श्रेयस अय्यर 19 रन बनाकर आउट हुए. 

इसके बाद आए केएल राहुल 5 रन बनाने में ही सफल हो पाए और बाद में कोहली भी 63 रन बनाकर आउट हुए. भारत ने 152-5 विकेट खो दिए थे. इसके बाद हार्दिक पांड्या और रविंद्र जडेजा ने मिलकर भारतीय पारी को संभाला और टीम के स्कोर को 302 तक लेकर गए. हार्दिक पांड्या ने 76 गेंदों पर 7 चौके और एक छक्के की मदद से 92 रन बनाए जबकि जडेजा ने 50 गेंदों पर 5 चौके और 3 छक्के की मदद से 66 रन बनाए. यह दोनों बल्लेबाज अंत तक नाबाद रहे.

विराट कोहली ने सिर्फ 30 साल की उम्र में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में 20,000 से अधिक रन बना दिए हैं. कोहली के नाम एक दिवसीय क्रिकेट प्रारूप में सबसे तेज 10,000 रन बनाने का विश्व रिकॉर्ड है. शतकों की कुल संख्या के मामले में; वह सचिन और रिकी पोंटिंग के बाद तीसरे नंबर पर हैं जिन्होंने क्रमशः 100 और 71 अंतरराष्ट्रीय शतक बनाए थे, कोहली 69 शतक लगा चुके हैं.

विराट कोहली को वर्तमान क्रिकेट युग में सबसे बेहतरीन बल्लेबाज माना जाता है. वह जैसे-जैसे मैच खेलते जा रहे हैं क्रिकेट रिकार्ड्स अपने आप बनते जा रहे हैं. विराट कोहली ने 30 साल की उम्र कई रिकार्ड्स बना दिए हैं जो कि आगे आने वाले समय में किसी भी बल्लेबाज के लिए तोड़ना आसान नहीं होगा.

विराट कोहली एकमात्र भारतीय बल्लेबाज हैं, जिन्होंने ICC की ODI रैंकिंग में 890 रेटिंग अंक हासिल किए हैं. इससे पहले 887 की सर्वश्रेष्ठ रेटिंग 1998 में सचिन तेंदुलकर के पास थी.
विराट कोहली; सुनील गावस्कर के बाद केवल दूसरे भारत के बल्लेबाज बन गए हैं, जो टेस्ट बल्लेबाजों के लिए ICC प्लेयर रैंकिंग में 900 अंक तक पहुंच गए हैं.

विराट कोहली; आईसीसी की टेस्ट प्लेयर रैंकिंग में 936 रेटिंग अंकों के साथ दूसरे स्थान  पर हैं. यह रैंकिंग किसी भी भारतीय टेस्ट मैच खेलने वाले बल्लेबाज द्वारा पहली बार प्राप्त की गयी है. कोहली से पहले किसी भी भारतीय की सर्वश्रेष्ठ टेस्ट रेटिंग 916 थी. कोहली ने इंडियन प्रीमियर लीग में सबसे अधिक 5034 रन बनाए हैं. उन्होंने सुरेश रैना को पीछे छोड़ दिया जिन्होंने भी आईपीएल में 5000 रन बनाए हैं. भारतीय कप्तान ने टेस्ट मैचों में कप्तान के रूप में 7 दोहरे शतक बना चुके हैं. उन्होंने क्रिकेट के दिग्गज ब्रायन लारा को पछाड़ दिया, जिन्होंने टेस्ट कप्तान के रूप में पांच दोहरे शतक बनाए थे. अक्टूबर 2018 में, विराट कोहली सबसे तेज 10,000 एकदिवसीय रन बनाने वाले बल्लेबाज बने थे. उन्होंने इस लैंडमार्क तक पहुंचने के लिए सिर्फ 205 पारियां खेली थी, जबकि सचिन ने इस लैंडमार्क को छूने के लिए 259 पारियां खेली थीं.

राहुल द्रविड़ ने 10 साल, 317 दिन खेलने के बाद 10,000 एकदिवसीय रन बनाए थे, जबकि कोहली ने सिर्फ 10 साल और 68 दिन खेलकर इस उपलब्धि को हासिल किया था. विराट कोहली दो टीमों (वेस्टइंडीज और श्रीलंका) के खिलाफ एक दिवसीय मैचों में लगातार 3 शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी बन गए हैं. विराट कोहली ने एक कैलेंडर वर्ष में वनडे में सबसे तेज़ 1000 रन बनाने का रिकॉर्ड बनाया है उन्होंने हाशिम अमला के 15 पारियों के रिकॉर्ड को तोडा है.

कोहली ने टेस्ट मैच की केवल 138 परियों में 26 टेस्ट शतक लगा दिए हैं जो कि डॉन ब्रैडमैन के बाद सबसे तेज है जिन्होंने केवल 68 परियों में 25 टेस्ट शतक लगा दिए थे. सचिन तेंदुलकर ने 130 टेस्ट परियों में 25 टेस्ट शतक लगा दिए थे. कोहली ने 25 एकदिवसीय शतक लगाने के लिए केवल 162 परियां खेलीं थीं जबकि सचिन ने 234 परियां खेली थीं. यह भी कोहली का विश्व रिकॉर्ड है. कोहली पूरी दुनिया में अकेला ऐसा बैट्समैन है जिसने क्रिकेट के तीनों फोर्मट्स ODI, टेस्ट और टी-20 में 50 से ज्यादा की औसत से कुल 20,000 रन बनाये हैं.

कोहली एकमात्र कप्तान भी बने जिसने एक साल में सबसे अधिक वनडे रन बनाये हैं. कोहली ने 2017 में 1460 रन बनाए थे और 2007 में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग के 1424 रन से आगे निकल गए.  बतौर कप्तान कोहली ने साल 2017 और 2018 में 6-6 शतक बनाए थे. कोहली एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय में एक कैलेंडर वर्ष में छह एकदिवसीय शतक बनाने वाले पहले कप्तान बन चुके हैं.  कोहली सबसे सफल भारतीय वनडे कप्तान हैं. एक कप्तान के रूप में कोहली की सफलता की दर 75.89% है जो M.S धोनी से भी बेहतर है.

Ad

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here