Haryana Media
Ad


हादसे के बाद ट्रक चालक मौके से फरार हो गया
हरियाणा के सोनीपत में घने कोहरे ने मंगलवार की सुबह तीन लोगों की जान ले ली। हादसा ट्रक की वजह से हुआ, जिसने टोल प्लाजा पर खड़ी एक कार को पीछे से टक्कर मारी। उसके बाद एक के बाद कारें टकराती चली गईं। बताया जा रहा है कि ट्रक की रफ्तार बहुत तेज थी।
हादसे में तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं सात लोग गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं, जिनका सिविल अस्पताल में इलाज चल रहा है। मृतकों की कारों से बरामद हुए दस्तावेजों के आधार पर पुलिस शिनाख्त कर रही है। हादसे के बाद ट्रक चालक मौके से फरार हो गया।
पुलिस के अनुसार, एक कार टोल अदा करने के लिए बैरियर पर खड़ी थी। पीछे से तेज रफ्तार ट्रक आया और उसने कार को टक्कर मार दी। उसके बाद कारें एक दूसरे के ऊपर चढ़ती चली गईं। अज्ञात चालक के खिलाफ मामला दर्ज करके गिरफ्तारी के लिए छापामारी की जा रही है।
वहीं, एक और खबर पानीपत से है जिसमें किसान आंदोलन किसान आंदोलन में लंगर लेकर दिल्ली जा रहे कैथल के युवकों की कार पानीपत के सिवाह बाइपास पर दिल्ली पेरलर नहर में गिर गई। दो युवकों ने जैसे-तैसे करके खुद को निकाला, लेकिन एक युवक पानी के तेज बहाव में बह गया। गोताखोरों ने भी युवक की तलाश कीए लेकिन सोमवार दोपहर तक उसका पता नहीं लग सका।

कैथल जिले के गांव कच्ची पिसौल के यदविंद्र व गुरकरण और दूसरे गांव मस्तगढ़ के जसप्रीत के साथ किसान आंदोलन में लंगर लेकर स्विफ्ट डिजायर कार से दिल्ली जा रहे थे। हाईवे पर जाम से बचने के लिए युवकों ने दिल्ली पेरलर नहर किनारे का रास्त चुना। रविवार रात करीब 10ः30 बजे युवक जब पानीपत के सिवाह बाइपास पर पहुंचे तो सामने से आये ट्रक के डीपर और हल्की धुंध में उन्हें पुल नहीं दिखाई दिया। पुल पर मोड़ने के बजाय कार सीधी निकल गई। एक गहरे गड्‌ढे में गिरने के बाद अनियंत्रित हुई कार नहर में जा गिरी। कार यदविंद्र चला रहा थाए गुरकरण कंडक्टर सीट और जसप्रीत पीछे बैठा था।

सबसे पहले गुरकरण बाहर निकला। उसके बाद जसप्रीत और यदविंद्र गाड़ी से बाहर आए। गाड़ी से बाहर आने के दौरान जसप्रीत तेज बहाव की तरफ चला गया। गुरकरण ने हाथ पकड़ने का प्रयास कियाए लेकिन पकड़ नहीं पाया। फिर दोनों सिर पर बांधा हुआ फरना जसप्रीत की ओर फेंकाए लेकिन जसप्रीत फरना नहीं पकड़ सका और तेज बहाव में बहता चला गया। दोनों युवकों ने काफी दूर तक जसप्रीत की तलाश कीए लेकिन वह नहीं मिला।

100 नंबर पर भेजी लोकेशए तब पहुंची पुलिस
यदविंद्र ने बताया कि काफी तलाश करने के बाद भी जसप्रीत के न मिलने पर उन्होंने 100 नंबर पर कॉल की। पुलिस ने लोकेशन भेजने को कहा तो सोशल मीडिया से लोकेशन भेजी। जिसके करीब आधा घंटे बाद पुलिस मौके पर आई। क्रेन से गाड़ी को बाहर निकाला।

दो बहनों का इकलौता भाई है जसप्रीत
नहर में अभी तक लापता कैथल के गांव मस्तगढ़ का जसप्रीत दो बहनों का इकलौता भाई है। कार के नहर में गिरने की सूचना पर दोनों गांवों से परिजन सिवाह बाइपास पहुंचे। जसप्रीत न मिलने से परिजनों को बुरा हाल रहा।

सिवाह बाइपास पर है अंधा मोड़, साइन बोर्ड तक नहीं
करनाल की ओर से आने के दौरान सिवाह बाइपास पर दिल्ली पेरलर नहर के बायें ओर की सड़क खत्म हो जाती है। इसके बाद पुल क्रास करके नहर के दूसरी ओर जाना होता है। यहां सड़क खत्म होने और मुड़ने के लिए कोई साइन बोर्ड नहीं है। पुल की बाउंड्री भी छोटी है। ऐसे में रात के समय और पहली बार इस रोड पर चलने वाले लोगों को मोड़ की जानकारी नहीं होती और वाहन सीधा नहर में चला जाता है। यदविंद्र ने बताया कि उनके गिरने के बाद कई अन्य वाहन भी गिरने से बचे हैं।

Ad

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here